चुनाव आते ही फिर सनके मणिशंकर अय्यर, पढ़िए क्या कहा कि बढ़ गया बवाल

चुनाव आते ही शुरू हुआ हिन्दू-मुस्लिम प्ले-कार्ड … चुनाव आते ही आया कांग्रेसी नेता मणिशंकर अय्यर का मुस्लिम-तुष्टिकरण भरा बयान। ऐसा बयान जिससे मचेगा घमासान।

अगले साल होने वाले पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव से ठीक पहले अपने विवादित बयानों के लिए सुर्खियों में रहने वाले कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर का एक और बयान सुर्खियों में है। इस बार कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने मुगलों की जमकर तारीफ की और भाजपा पर हमला बोला है। रविवार को नेहरू जयंती पर हुए एक कार्यक्रम के दौरान मणिशंकर अय्यर ने मुगल शासन में हुए अत्याचारों की बातों को नकार दावा किया कि मुगलों ने कभी देश में धर्म के नाम पर अत्याचार नहीं किया। अय्यर ने मुगल बादशाहों का जिक्र कर कहा कि सत्ता में बैठे लोगों के लिए केवल 80 फीसदी लोग ही असली भारतीय।

मणिशंकर अय्यर ने कहा कि मुगलों ने इस देश को अपना बनाया। अंग्रेजों ने कहा कि हम तो यहां राज करने आए हैं। बाबर ने महज चार साल में हुमायूं को बताया कि अगर आप इस देश को चलाना चाहते हैं तो यहां के निवासियों के धर्म में दखल नहीं दीजिएगा। उनके बेटे अकबर ने इस देश में पचास साल तक राज किया। दिल्ली में एक सड़क है, जहां कांग्रेस दफ्तर है, वह अकबर रोड पर है। हमें अकबर रोड से कोई एतराज नहीं। हम अकबर को अपना समझते हैं और हम उन्हें गैर नहीं समझते थे। उनकी शादियां राजपूतों से होती थीं। नतीजा ये कि जहांगीर आधा राजपूत थे और उनके बेटे शाहजहां चार में से तीन हिस्सा तो हिंदू।

अय्यर ने कहा कि 1872 में अंग्रेजों ने पहली जनगणना करवाई और उससे पता लगा कि 666 साल राज करने के बाद मुसलमानों की तादाद भारत में तकरीबन 24 फीसदी की थी और हिंदुओं की 72 फीसदी थी। मगर ये कहते हैं कि मारपीट हुई, सब लड़कियों के साथ बलात्कार हुआ और सबको मुसलमान बना दिया। अरे अगर मुसलमान बनते तो आंकड़े अलग होने चाहिए। 72 प्रतिशत मुसलमान होने चाहिए और 24 प्रतिशत हिंदू होने चाहिए। लेकिन असलियत क्या थी कि इतने ही थे। इसलिए बंटवारे से पहले जिन्ना जी का एक ही मांग था कि सेंट्रल असेंबली में हमें 30 फीसदी आरक्षण दीजिए। उन्होंने बस इतना ही मांगा। मगर उन्हें इनकार कर दिया गया, क्योंकि उनकी तादाद 26 फीसदी ही थी।

अय्यर ने कहा कि राहुल जी ने हाल में दो-तीन दिन पहले ये कहा कि हिन्दू धर्म और हिन्दुत्व में अंतर है। मैं उसके साथ जोड़ना चाहता हूं कि अंतर ये है कि हम जो हिन्दू धर्म पर विश्वास करते हैं। हम 100 प्रतिशत भारतीय हैं। हम सारे जो इस देश के बाशिंदे हैं, हम उनको भारतीय समझते हैं और चंद लोग हैं हमारे बीच में जो आज के दिन सत्ता में हैं, जिनका कहना है कि नहीं, 80 प्रतिशत भारतीय, जो कि 80 हिन्दू धर्म को मानते हैं, वही हैं असली भारतीय।

बता दें कि राहुल गांधी ने बीते दिनों हिंदुत्व और हिंदू धर्म पर अंतर स्पष्ट किया था। उन्होंने कहा था कि क्या सिख या मुसलमान को पीटना हिंदू धर्म है? हिंदुत्व तो निश्चित रूप से यही है। यह किस (हिंदू) किताब में लिखा है? मैने इसे नहीं देखा है। मैंने उपनिषद पढ़े हैं। लेकिन मैंने इसे वहां भी नहीं पढ़ा है। राहुल गांधी का बयान सलमान खुर्शीद के उस बयान के संदर्भ में आया था, जिमसें उन्होंने हिंदू धर्म की तुलना आतंकवादी समूहों बोको हरम और आईएसआईएस के जिहादी इस्लाम से की थी।